Ek aasha || hindi poetry || kavita

  • Uncategorized
  • by

      एक आशा 

एक आशा की चाह है मुझे आजकल
एक आशा की चाह है मुझे आजकल
क्यों अब तरस रही हैं आंखें मेरी आजकल!!
गया वो ज़माना जब खुद पर हम इतराते थे होकर बे फ़िक्र
गया वो ज़माना जब खुद पर हम इतराते थे होकर बे फ़िक्र
नज़र मैं आते थे हम सबकी जैसे हो एक खिली दोपहर!!
अचानक ये क्या हुआ क्यों लग गयी हमें किसी की नज़र
ग़र्दिशों का अब तो एक मेला हैं जिसमे मुझे चलना अकेला हैं!!
खामोशियाँ अब इतनी बढ़ रही हैं आजकल
कुछ नया पाने की चाह हो रही है मुझे आजकल
वो हंसना हम बूल क्यों गए आजकल
एक ठहराव सा आ गया है ज़िन्दगी मैं आजकल
बस एक आशा की चाह हे मुझे आजकल!!

Sunee@zindagiterenaam.com

Title: Ek aasha || hindi poetry || kavita

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


Teri yaad nu bura kyun kahiye || yaad punjabi shayari

Teri yaad nu bura kyun kahiye,
Jehri har pal saath nibhaundi ae,
Tere naalo ta teri yaad hi changi,
Jehri haale v saanu milan aundi ae,
Dukh dil vich luko ke hanju naina vich pro k,
Tere aan di udeek asi layi baithe ha,
Kar tu Yaqen sanu bhul jaan waleya,
Asi tere piche duniya bhulai baithe ha.

Title: Teri yaad nu bura kyun kahiye || yaad punjabi shayari


har kasam jhoothi khayi hai || 2 lines sad alone heart broken shayari hindi

Kaun kehtaa hai janaab jhoothi kasme khaane se marte hai
mere mehboob ne to har kasam meri jhoothi khayi hai

कौन कहता है जनाब झुठी कसमें खाने से मरते है
मेरे मेहबूब ने तो हर कसम मेरी झुठी खयी है।।

Title: har kasam jhoothi khayi hai || 2 lines sad alone heart broken shayari hindi