Paison ki zaroorat bhi hai mujhe || shayari hindi || poetry

पैसों की ज़रुरत भी है मुझे, और है नहीं भी मुझे
कम् हो रही कमाई मेरी,क्यों अन्दर ही अन्दर खा रही हैं मुझे, और नहीं भी मुझे,
मगर साथ ही साथ ऐसा कुछ समझा भी रही हैं मुझे!!
फालतू के खर्चों का भोज जो दिल पर डोल रखा हैं उसका एहसास भी करा रही है मुझे, पैसों की ज़रुरत भी है मुझे, और है नहीं भी मुझे
किस्से कहानियों में किसी दानव का नाम सुना था मैंने,
मगर २०२०-२०२१ में इसका एहसास दिला रही हैं मुझे
पैसों की ज़रुरत भी है मुझे, और है नहीं भी मुझे!!!

Title: Paison ki zaroorat bhi hai mujhe || shayari hindi || poetry

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


PYAAR

Pyaar ik hai hi ajehi cheej k jekar yaar sahmne hove taan bullaan di muskuraahatt ton pehlaan naina de paani swagat karde ne

Pyaar ik hai hi ajehi cheej
k jekar yaar sahmne hove taan
bullaan di muskuraahatt ton pehlaan
naina de paani swagat karde ne



RABB TE YAKIN

Rakh rabb te yakin din aunge hasin

Rakh rabb te yakin
din aunge hasin