Skip to content

Bhulle khud nu || sacha pyar shayari || Punjabi status

Bhulle khud nu hoye gumnaam asi..!!
Laiye naam tera subah shaam asi..!!
Shukrana ke sanu mileya e tu
Eh zindagi likhayi tere naam asi..!!

ਭੁੱਲੇ ਖੁਦ ਨੂੰ ਹੋਏ ਗੁਮਨਾਮ ਅਸੀਂ..!!
ਲਈਏ ਨਾਮ ਤੇਰਾ ਸੁਬਾਹ ਸ਼ਾਮ ਅਸੀਂ..!!
ਸ਼ੁਕਰਾਨਾ ਕਿ ਸਾਨੂੰ ਮਿਲਿਆਂ ਏਂ ਤੂੰ
ਇਹ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਲਿਖਾਈ ਤੇਰੇ ਨਾਮ ਅਸੀਂ..!!

Title: Bhulle khud nu || sacha pyar shayari || Punjabi status

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


veera di sardari || Punjabi shayari on brother and parents

Maapeyaa da hasda chehra te veera di sardaari
ik bhen nu sab to jyada hunda aa pyari

ਮਾਪਿਆ ਦਾ ਹੱਸਦਾ ਚਿਹਰਾ ਤੇ ਵੀਰਾਂ ਦੀ ਸਰਦਾਰੀ..
ਇਕ ਭੈਣ ਨੂੰ ਸਭ ਤੋਂ ਜ਼ਿਆਦਾ ਹੁੰਦੀ ਆ ਪਿਆਰੀ💞..

Title: veera di sardari || Punjabi shayari on brother and parents


Hindi poetry || desh poetry कविता – शहादत के बोल

माथे पे तिलक लगाकर कूद पड़े थे अंग़ारो पे,
माटी की लाज के लिए उनके शीश थे तलवारों पे।
भगत सिंह की दहाड़ के मतवाले वो निर्भर नहीं थे किन्ही हथियारों पे,
अरे जब देशहित की बात आए तो कभी शक ना करो सरदारों पे॥
आज़ादी की थी ऐसी लालसा की चट्टानों से भी टकरा गये,
चंद आज़ादी के रणबाँकुरो के आगे लाखों अंग्रेज मुँह की खा गये।
विद्रोह की हुंकार से गोरों पे मानो मौत के बादल छा गये,
अरे ये वही भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव है जिनकी बदौलत हम आज़ादी पा गये॥
आज़ादी मिली पर इंक़लाब की आग में अपने सब सुख-दुःख वो भूल गये,
जननी से बड़ी माँ धरती जिसकी ख़ातिर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु झूल गये॥
अब राह तक रही उस माँ को कौन जाके समझाएगा,
कैसे बोलेगा उसको की माँ अब तेरा लाल कभी नहीं आएगा।
बस इतना कहूँगा कि धन्य हो जाएगा वो आँचल जो भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु सा बेटा पाएगा,
क्योंकि इस माटी का हर कण और बच्चा-बच्चा उसे अपने दिल में बसाएगा॥

Title: Hindi poetry || desh poetry कविता – शहादत के बोल