alone shayari

alone shayari, alone shayari in hindi, lonely shayari in english, alone sad shayari in hindi for facebook and whatsapp. alone shayari sad and love, feeling loneliness, for girls and boys. Shayari for biyfriend and girlfriend.

Yaadeein || tum kab sath the

Muskurate the woh lamhe jab tum saath the….
khushiyan qadam chumti thi sirf tumhare dekhne se…
itni purani hogai hai woh yaadeein ke ab yaad bhi nahi ke tum kab saath the….

koi na milega || kabar hindi shayari

Mujhe tmhare jesa koi na milega lakin tmhe tho bhut mil jayege…….
Tm kisi ki bahoon m letoge or hm kabar m late jayege……

Beech raah me || heartbroken shayari sad

इश्क किया था हमने भी
पर छोड़ कर चली गए हमे बीच राह में।
शायद हमसे गलती हो गई
सच्चा प्यार दे बैठे थे हम
यही हमारी भूल हो गई

Kya Mila Hume Barbad Karke || sad alone shayari

  • Uncategorized
  • by

Bahut Roya Hai Dil Unhe Yad Karke
Kuch Na Mila Rab Se B Fariyad Karke
Wo Keh Gaya Mai Na Dunga Sath Apka
Koi Puche Unhe Kya Mila Hume Barbad Karke

VO TO NHI || alone sad yaad shayari

  • Uncategorized
  • by

kuch pal hi to yaad aate han vo to nhi
baton ki baraat laate han vo to nhi

vo naa aaye ab fark nhi padta ab uske supne khaate han vo to nhi 

Sabi

teri yaadon ko sambhala || yaad hindi shayari

MAINE TUFAANO SE KAISE KISHTI KO NIKALA HAI,
AE BICHDE HUE SAATHI TERI YAADON KO SAMBHAALA HAI
HUME TERI JUDAAI KITNA TADPAAEGI
NHI AANKHON SE ROYENGE, MAGAR YE DIL HUME RULAEGA
AE BICHDE HUE SAAATHI TERI YAAD BAHUT AAEGI.

har kasam jhoothi khayi hai || 2 lines sad alone heart broken shayari hindi

Kaun kehtaa hai janaab jhoothi kasme khaane se marte hai
mere mehboob ne to har kasam meri jhoothi khayi hai

कौन कहता है जनाब झुठी कसमें खाने से मरते है
मेरे मेहबूब ने तो हर कसम मेरी झुठी खयी है।।

मेरे आंसुओ का मुकाबला || hindi shayari dard

मेरे प्यार की तपिश के आगे यह सूरज भी ठंडा है,

मेरे आंसुओ का मुकाबला यह बरसात क्या करेगी ।

तुझे पाने की चाहत में, हम सब कुछ खोते चले गए,

मगर फिर भी ऐ मेरे हमनशी, तुम दुर होते चले गए,

अब इससे ज्यादा मेरे हाल को बेहाल क्या करेगी,

मेरे प्यार की तपिश के आगे यह सूरज भी ठंडा है,

मेरे आंसुओ का मुकाबला यह बरसात क्या करेगी ।

मिल गया था मैं तुझे बिन मांगे, तुम कदर भी मेरी क्या करते ,

तुम रूठते हम मना लेते, मगर बदल ही गए हम क्या करते,

मैं लेटू नींद ना आये मुझे,  तु भी रात को तारे गिना करेगी,

मेरे प्यार की तपिश के आगे यह सूरज भी ठंडा है,

मेरे आंसुओ का मुकाबला यह बरसात क्या करेगी ।

मैने खूद को ना ऐसे चाहा कभी,  जैसे तुझको चाहते चले गए,

मैने देखा खुद को खोते हुए, बस तेरे होते चले गए,

मैंं इतना दूर चला जाऊं, तु घूट घूट आंहे भरा करेगी,

मेरे प्यार की तपिश के आगे यह सूरज भी ठंडा है,

मेरे आंसुओ का मुकाबला यह बरसात क्या करेगी ।

मैने खुदा से ऐसे मांगा उसे, मैं जीता,  किस्मत हार गई,

यह “रमन” की महोब्बत की कविता थी, कोई जिस्मो का व्यापार नहीं,

तेरे पीछे खुद को फ़ना कर दू, मेरे गीत भी दुनिया गाया करेगी,

मेरे प्यार की तपिश के आगे यह सूरज भी ठंडा है,

मेरे आंसुओ का मुकाबला यह बरसात क्या करेगी ।

Rami_