Skip to content

Hai ishq toh fir asar bhi hoga || hindi shayari

है इश्क़ तो फिर असर भी होगा
जितना है इधर उधर भी होगा

माना ये के दिल है उस का पत्थर
पत्थर में निहाँ शरर भी होगा

हँसने दे उसे लहद पे मेरी
इक दिन वही नौहा-गर भी होगा

नाला मेरा गर कोई शजर है
इक रोज़ ये बार-वर भी होगा

नादाँ न समझ जहान को घर
इस घर से कभी सफ़र भी होगा

मिट्टी का ही घर न होगा बर्बाद
मिट्टी तेरे तन का घर भी होगा

ज़ुल्फ़ों से जो उस की छाएगी रात
चेहरे से अयाँ क़मर भी होगा

गाली से न डर जो दें वो बोसा
है नफ़ा जहाँ ज़रर भी होगा

रखता है जो पाँव रख समझ कर
इस राह में नज़्र सर भी होगा

उस बज़्म की आरज़ू है बे-कार
हम सूँ का वहाँ गुज़र भी होगा

‘शहबाज़’ में ऐब ही नहीं कुल
एक आध कोई हुनर भी होगा

Title: Hai ishq toh fir asar bhi hoga || hindi shayari

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


कुछ तो संभाल रखा है ……..

सौ ख्वाबों को मिला के एक ख्वाब देख रखा है ,

ज़िंदगी ने जाने फिर भी क्या हिसाब रखा है ,

तू मशरुफ़ है तेरी अहमत में,

और मैंने तेरे इंतज़ार को संभाल रखा है ।

 

माना दर्द की सौगात लाता है इश्क़ जाना ,

फिर भी मैंने अपनी मुलाकातों का गुलाब रखा है ,

तेरे साथ ही तो चल रहा है वजूद मेरा ,

तेरी यादों  का मैंने एक तकियाँ भिगो रखा है ।

 

तेरा यू इंतज़ार करवाना ,मेरे दिल को खा जाता है ,

फिर भी तुझसे मिलने का अरमान सजा रखा है ,

कभी आओ खुल के सामने जो मेरे तुम तो दिखाऊ ,

टूटे दिल मे भी तेरे लिए एक महल सजा रखा है ।  

                                     ………….अजय कुमार । 

Title: कुछ तो संभाल रखा है ……..


Intezaar🙂 sad shayari

Mana tumpr hamara ab koi iqtiyaar nhi,

 Pr yeh b nhi ke tumse pyrr nhi,

Tumhe bhul jaaye mumkin toh nhi,

Pr tumhe paa le hum utne khushnaseeb bhi toh nhi🙂

Title: Intezaar🙂 sad shayari