Skip to content

Hindi shayari || Ghazal by Rekhta Pataulvi

महर-ओ- वफ़ा की शमआ जलाते तो बात थी
इंसानियत का पास निभाते तो बात थी
जम्हूरियत की शान बढ़ाते तो बात थी
फ़िरक़ा परस्तियों को मिटाते तो बात थी
जिससे कि दूर होतीं कुदूरत की ज़ुल्मतें
ऐसा कोई चराग़ जलाते तो बात थी
जम्हूरियत का जश्न मुबारक तो है मगर
जम्हूरियत की जान बचाते तो बात थी
ज़रदार से यह हाथ मिलाना बजा मगर
नादार को गले से लगाते तो बात थी
बर्बाद होने का तो कोई ग़म नहीं मगर
अपना बनाके मुझको मिटाते तो बात थी
हिंदुस्तान की क़सम ऐ रेख़्ता हूँ ख़ुश
पर मुंसिफ़ी की बात बताते तो बात थी

Title: Hindi shayari || Ghazal by Rekhta Pataulvi

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


tu rusda reh || Punjabi shayari

TU RUSDA REH || PUNJABI SHAYARI
Tu rusda reh sajjan manona assi v nahi
tu lakh de zakham rona assi v nahi
oh tere kol aa kadr kar sajjana
kyunki saari umar ta jeona assi v nahi




Hope || English quotes || motivation

Start with hope…🍁
To make your end hopeful…🍁

Title: Hope || English quotes || motivation