Skip to content

Kiski dadhi ki aag || akbar birbal kahani

बादशाह अकबर की यह आदत थी कि वह अपने दरबारियों से तरह-तरह के प्रश्न किया करते थे। एक दिन बादशाह ने दरबारियों से प्रश्न किया, “अगर सबकी दाढी में आग लग जाए, जिसमें मैं भी शामिल हूं तो पहले आप किसकी दाढी की आग बुझायेंगे?”

“हुजूर की दाढी की” सभी सभासद एक साथ बोल पड़े।

मगर बीरबल ने कहा – “हुजूर, सबसे पहले मैं अपनी दाढी की आग बुझाऊंगा, फिर किसी और की दाढी की ओर देखूंगा।”

बीरबल के उत्तर से बादशाह बहुत खुश हुए और बोले- “मुझे खुश करने के उद्देश्य से आप सब लोग झूठ बोल रहे थे। सच बात तो यह है कि हर आदमी पहले अपने बारे में सोचता है।”

Title: Kiski dadhi ki aag || akbar birbal kahani

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


Chal hun bhul ja || shayri

Chal hun bhul ja puraani
gallan karn da ki faiyda
dukha ton begair kujh milna ni
te fer ohna nu yaad karn da ki faiyda

ਚਲ ਹੁਣ ਭੁਲ ਜਾ ਪੁਰਾਣੀ
ਗਲਾਂ ਕਰਣ ਦਾ ਕੀ ਫਾਇਦਾ
ਦੁਖਾਂ ਤੋਂ ਬਗੈਰ ਕੁੱਝ ਮਿਲਣਾ ਨੀ
ਤਾਂ ਫੇਰ ਓਹਣਾ ਨੂੰ ਯਾਦ ਕਰਣ ਦਾ ਕੀ ਫਾਇਦਾ
—ਗੁਰੂ ਗਾਬਾ 🌷

Title: Chal hun bhul ja || shayri


Sbar di gal || punjabi Ghaint shayari

Sbar di gl ae dost kyi rukhi kha v oda shuker kri jande ne te kyi mehal pa k v onu nindi jande ne..😊

Title: Sbar di gal || punjabi Ghaint shayari