Skip to content

Naari || Hindi poetry || true lines

मान लिखूँ सम्मान लिखूँ मैं।
आशय और बखान लिखूं मैं।
जिस नारी पर दुनिया आश्रित,
उसका ही बलिदान लिखूँ मैं।।
जीवन ऐसी बहती धारा,
जिसका प्यासा स्वयं किनारा,
पत्थर पत्थर अश्क उकेरे,
अधरों पर मुस्कान लिखूँ मैं।
मान——
कोमल है कमज़ोर नहीं है,
नारी है यह डोर नहीं है,
मनमर्ज़ी इसके संग करले
इतना कब आसान लिखूँ मैं
मान—-
बेटा हो या बेटी प्यारी,
जन्म सभी को देती नारी,
इसका अन्तस् पुलकित कोमल
इसके भी अरमान लिखूँ मैं
मान—-
हिम्मत से तक़दीर बदल दे,
मुस्कानों में पीर बदल दे,
प्रेम आस विश्वास की मूरत,
शब्द शब्द गुणगान लिखूँ मैं
मान——

Title: Naari || Hindi poetry || true lines

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


Me vekhiyaa lokan nu || Sad shayari punjabi

sad punjabi shayari || Me Vekhiyaa lokan nu roj nawa din manaunde hoye 3 saal ho gaye fir koi din mere lai kyu na chadeyaa

Me Vekhiyaa lokan nu
roj nawa din manaunde hoye
3 saal ho gaye
fir koi din mere lai kyu na chadeyaa



Keh na saki us kamle || Sad Love Punjabi Shayari

Keh na saki us kamle nu
kine me chahundi si
tasveer ohdi nu luk luk ke
nit seene laundi si

ਕਹਿ ਨਾ ਸਕਿ ਉਸ ਕਮਲੇ ਨੂੰ
ਕਿੰਨਾ ਮੈ ਚਾਹੁੰਦੀ ਸੀ_
ਤਸਵੀਰ ਓਹਦੀ ਨੂੰ ਲੁਕ ਲੁਕ ਕੇ
ਨਿੱਤ ਸੀਨੇ ਲਾਉਂਦੀ ਸੀ_

Title: Keh na saki us kamle || Sad Love Punjabi Shayari