Skip to content

Pith piche || dhoka punjabi shayari

Mainu dikh de hoye v
Dikhya na dhoka tera
Main karda reha yakeen
Tu jit di rahi bharosa mera
Tu samne hi mere
Pith piche vaar kita
Dikh geya tera asli chehra
Mithe tere lafza na nav
Maar dita nav mar dita

Title: Pith piche || dhoka punjabi shayari

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


पेड़ों के महत्व पर कविता || Hindi poetry

अंकुर मिट्टी में सोया था सपने मै खोया था
नन्हा बीज हवा ने लाकर एक जगह बोया था।

तभी बीज ने ली अंगड़ाई देह जरा सी पाई
आंख खोलकर बाहर आया, दुनिया पड़ी दिखाई

खाद्य मिली पानी भी पाया ऐसे जीवन आया
ऊपर बड़ा इधर, धरती में नीचे उधर समाया।

तने डालिया पत्ते आए और फल मुस्कराए
नन्हा बीज वृक्ष बनकर धरती पर लहराए।

जीता मरता रोगी होता दुख आने पर सोता
वृक्ष सांस लेता बढ़ता है जगता है फिर सोता।

रोज शाम को चिड़िया आती सारी रात बिताती
बड़े सवेरे जाग वृक्ष, पर ची ची ची ची गाती।

छाया आती बड़ी सुआती सब टोली झूट जाती
तरह तरह के खेल वर्क्ष के नीचे बैठ रचती।

Title: पेड़ों के महत्व पर कविता || Hindi poetry


Alag ik Shakhsh mere ton || Shayari 2 lines sad

Sad Punjabi shayari love || Na raat eh aa alag na hawa hai ajh alag alag hai ik shakhash mere ton ajh mere pyar ne kita jihnu alag

Na raat eh aa alag
na hawa hai ajh alag
alag hai ik shakhash mere ton ajh
mere pyar ne kita jihnu alag