Skip to content

एक रात || ek raat jab darwaaze par

एक रात जब दरवाजे पर दस्तक हुई, तो लगा कोई आया होगा..

आख़िर देर रात ये है कौन। कहीं कोई बुरी खबर तो ना लाया होगा..?

बिस्तर से उठा घबराहट के साथ, रात ताला भी तो लगाया होगा..

चाबी ना जाने कहां रख दी मैंने, ऐसा होगा, रात दिमाग में ना आया होगा..

चाबी लेकर दौड़ा दरवाजे की ओर, दरवाजा तो खोलू, शायद कोई घबराया होगा..

दरवाज़ा खोला कोई नहीं था, ये कोई मज़ाक का वक़्त है, जो दरवाज़ा खटखटाया
होगा..

ना जाने कौन था ये, जो इतनी रात गऐ मेरे दर पे आया होगा..?

पूरी रात निकल गई सोचने में, ये मेरा वहम था, या सच में कोई आया होगा..

Title: एक रात || ek raat jab darwaaze par

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


साथ आज भी रहती है

जाने कहाँ बैठकर देखती होगी, वो आज जहां भी रहती है..
नाराज़ है वो किसी बात को लेकर, सपनों में आकर कहती है..
मैं याद नहीं करता अब उसको, चुप-चाप देखकर सहती है..
वो चली गई भले दुनिया से, मेरे ज़हन में अब भी रहती है..
उसे चाहता हूँ पहले की तरह, ये तो वो आज भी कहती है..
किसी और संग मुझे देख-ले गर जो, वो आज भी लड़ती रहती है..
ना वो भूली ना मैं भुला, भले भूल गई दुनिया कहती है..
रहती थी पहले भी पास मेरे, मेरे साथ आज भी रहती है..

Title: साथ आज भी रहती है


Yaad vi haan ja nahi || sad Punjabi shayari || sad but true

Menu taan tere naal ajj vi bhut mohobbat e
Par tenu pata nhi mein yaad vi haan ja nahi..!!

ਮੈਨੂੰ ਤਾਂ ਤੇਰੇ ਨਾਲ ਅੱਜ ਵੀ ਬਹੁਤ ਮੋਹੁੱਬਤ ਏ
ਪਰ ਤੈਨੂੰ ਪਤਾ ਨਹੀਂ ਮੈਂ ਯਾਦ ਵੀ ਹਾਂ ਜਾਂ ਨਹੀਂ..!!

Title: Yaad vi haan ja nahi || sad Punjabi shayari || sad but true