Skip to content

मंजिल अभी दूर है || hindi shayari || manzil shayari

मंज़िल अभी दूर है, मुसाफिर है बेचैन,
ठोकरें बहुत है राह में,बीत गए वो दिन रैन,
सोचा ना था यूं सौदा करूंगा,
बूंदों सी बारिश में प्यासा चलूंगा,
पसीने से तर है दामन मेरा
कैसे बायां करूं हाल ए दिल अपना के,
कैसे भीगते हैं मेरे नैन,
मंज़िल अभी दूर है, मुसाफिर है बेचैन,

शाम भी बीत गई, सूरज भी ढल गया,
रास्तों पर निकला तो वक्त भी बदल गया,
ठोकरें बहुत खाई अब थोड़ा संभाल गया,
किससे कहूं फिर भी भीगते हैं मेरे नैन,
मंज़िल अभी दूर है, मुसाफिर है बैचेन,

मेरा हिस्सा था जिनमें कुछ लम्हे चुरा लाया हूं,
हर कदम के साथ कुछ करीब आया हूं,
किनारों पर समेटकर कुछ लेहरें लाया हूं,
दो पल ही सही वापस आए वो दिन रैन,
मै ही हूं वो मुसाफिर, मै ही था बेचैन…  

Title: मंजिल अभी दूर है || hindi shayari || manzil shayari

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


SAWERA

Harek da apna apna time aunda kale hanere ton baad sawera jaroor aunda

Harek da apna apna time aunda
kale hanere ton baad sawera jaroor aunda



To Kya Hua || hindi so true shayari

Ghar Uttha Toofan Hai; To Kya Hua;
Gham Ka Ek Dhariya Hai; To Kya Hua;
Ansoo Jo Yeh Chalke Hai; To Kya Hua;
Waqt Ye Jo Thehra Hai; To Kya Hua;
Hum Bhi Kisi Par Marr Mite Hai; To Kya Hua;
Zaahir Si Abh Baat Hai Ye; To Kya Hua;
Dil Mai Uttha Ik Toofan Hai Ye; To Kya Hua;
To Kya Hua Khatam Ho Rahi Pehchaan Hai Ye; To Kya Hua, To Kya hua, To Kya Hua!!!

Title: To Kya Hua || hindi so true shayari