Skip to content

Aaakhir me ek insaan hu || hindi poetry

*क्षमा दान की शक्ति*

आखिर मैं एक इंसान हूँ,पर आप तो हो भगवान।
जो भी होता है नियति है,नहीं पता मुझे परिणाम।
मैंने जो अब तक कि गलती,जो आगे करने वाला हूँ।
हे प्रभु! आज अतिरिक्त में,मुझको दे दो क्षमा दान।
आपने जो भी है दिया सबको, उसमें रहना सन्तुष्ट सभी।
स्वार्थ और ईर्ष्यावश में,नहीं होना है पथभ्रष्ट कभी।
इंसान गलतियों का पुतला,हो सका कभी परिपूर्ण नहीं।
फिर मद में अन्धा होकर वो,भूल जाता ही है गलत सही।
पर आप दया के सागर हो,करुणा के हो भंडार प्रभु।
सब के मन से द्वेष को करके दूर, आप सब मे भर दो प्यार प्रभु!
सब जीव आपकी संताने,न करें कोई भी भेदभाव।
बन जाओ सब मन से उदार,करें क्षमा द्वेष का हो अभाव।
सच्चे मन से करे प्रायश्चित तो,प्रभु हर अपराध क्षमा कर जाते हैं।
आप सर्वशक्तिमान इसी कारण ही,सब के द्वारा कहलाते हैं।
सच में वो ही है शक्तिमान,जिसने है सब को माफ किया।
भूल के सारी बातों को ,हर किसी का है जो साथ दिया।

Title: Aaakhir me ek insaan hu || hindi poetry

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


KHUSIYAAN DA MAKSAD || Punjabi status sad

Khusiyaan da maksad c jisda
meri zindagi vich
gam likh gya janda janda
meri zindagi vich

ਖੁਸ਼ੀਆਂ ਦਾ ਮਕਸਦ ਸੀ ਜਿਸਦਾ
ਮੇਰੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਵਿੱਚ
ਗਮ ਲਿਖ ਗਿਆ ਜਾਂਦਾ ਜਾਂਦਾ
ਮੇਰੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਵਿੱਚ

Title: KHUSIYAAN DA MAKSAD || Punjabi status sad


koee rooh ka talabagaar || True Shayari searching for love

koee rooh ka talabagaar mile to ham bhee mahobbat kar le,
yahaan dil to bahut milate hai, bas koee dil se nahin milata…

कोई रूह का तलबगार मिले तो हम भी महोब्बत कर ले,
यहाँ दिल तो बहुत मिलते है, बस कोई दिल से नहीं मिलता…

Title: koee rooh ka talabagaar || True Shayari searching for love