Skip to content

Roshan Kumar Choudhary

. . 𝒁 𝑬 𝑹 𝑶

Mohobat dhoop me || अंधेरा

मोहब्बत धूप में छाँव की तरह है
धूप जमाने की तरह
तुम छाँव में रुकना मत यही छाँव ठण्ड में तुम्हें सतायेगी
ठण्ड समझदार की तरह
ये ठण्ड तुम्हें धूप की ओर ले जाएगी
धूप तुम्हे अंधेरे में छोड़ जाएगी

अंधेरे दो तरह की है

पहले में मां बाप साथ है दूसरे में उनकी याद
इसीलिये तो मां बाप अंधेरो में जीना सिखाते है

ताकी जब दूसरा अंधेरा आए तो तुम कहो
अंधेरो आओ अब हम तुम्हें रास्ता दिखाते है

Roshan Kumar Choudhary

. . 𝒁 𝑬 𝑹 𝑶