Sourav Rana

Tujhe teri yaadon ko bhula rahein hain hum || sad but true shayari

Aajkal ek naya nasha kar rahe hain hum
Tere khato ko jalakar dhua dhua kar rahe hain hum
Aaj aakhri baar palkein bhiga rahe hain hum
Kal se tujhe teri yaad sabko bhula rahe hain hum 💔

आज कल एक नया नशा कर रहे है हम
तेरे खतो को जलाकर धुआं धुआं कर रहे है हम
आज आखरी बार पलके भीगा रहे है हम
कल से तुझे तेरी याद सबको भुला रहे है हम💔

Ik tarfi mohobbat || love hindi shayari

Ik tarfi hi sahi mohobbat zari rahegi
Harenge nahi hum bazi hmari rahegi
Ladenge bidhenge girenge fir sikh bhi jayenge
Tujhse to haar kar bhi hum hi jeet jayenge ❤️

इक तर्फी ही सही मोहोब्बत जारी रहेगी
हारेगें नही हम बाजी हमारी रहेगी
लड़ेगे बिडेगे गिरेंगे फिर सीख भी जाएंगे 
तुझसे तो हार कर भी हम ही जीत जाएंगे ❤️

Tujhse baat karne ko jee chahta hai || love Hindi shayari

Tujhse baat karne ko jee chahta hai
Par baat kya karu samjh nhi aata hai
Mein bas itna puch sakta hu kesi hai tu
Mujhe baat karne ka yahi tareeka aata hai 😶

तुझसे बात करने को जी चाहता है
पर बात क्या करू समझ नही आता है
मैं बस इतना पूछ सकता हु  कैसी है तू
मुझे बात करने का यही तरीका आता है। 😶

Tere baad || love shayari || Hindi shayari

Tere baad teri cheezon ka khayal rakha
Aansu se lekar rumaal bhi sambhal rakha ❤️
Aur kuch yun mohobbat thi hmari tumse
Humne teri yaad mein teri yaad ko bhi sambhal rakha 🤗

तेरे बाद तेरी चीजों का ख्याल रखा
आंसू से लेकर रूमाल भी संभाल रखा❤️
और कुछ यू मोहबात थी हमारी तुमसे 
हमने तेरी याद में तेरी याद को भी संभाल रखा।🤗

Ishq || Hindi sad shayari

Kya ishq hi wajah thi
Ya kisi wajah se ishq tha
Tujhse door rehna Teri marzi thi
Door rehkar yaad karna mera ishq tha 💔

क्या ईश्क ही वजह थी
या किसी वजह से ईश्क था
तुझसे दूर रहना तेरी मर्जी थी
दूर रहकर याद करना मेरा ईश्क था 💔

Thoda hi mila humein|| sad hindi shayari

Vo dekh kar bhi nazarandaaz karte
Par koi na gila humein
Ishq ho ya nafrat
Sab thoda hi mila humein💔

वो देख कर भी नजरंदाज करते
पर कोई न गिला हमे
ईश्क हो या नफरत
सब थोड़ा ही मिला हमे💔

Ishq mein aajmayish || Hindi shayari || true lines

Ishq mein aajmayish nhi chalti
Jaha maang kar khana ho waha farmaish nhi chalti
Batane aur sunne mein fark hota hai
Har jgah hmari tumhari khwahish nhi chalti 🙌

ईश्क में आजमाइस नहीं चलती
जहा मांग के खाना हो वहा फरमाइश नही चलती
बताने और सुनाने में फर्क होता है
हर जगह हमारी तुम्हारी ख्वाईस नही चलती🙌

Ajmana padta hai || sad but true || Hindi shayari

Harkatein byan nahi karti
Jtana bhi padta hai
Ishq mein kabi kabi
Ajmana bhi padta hai
Aur kaise shode sath uska
Jo har waqt tha sath hmare
Ab yun Na kehna ki
Shod ke Jana bhi padta hai🍂

हरकते बयां नहीं करती 
जताना भी पड़ता है
ईश्क में कभी कभी
आजमाना भी पड़ता है
और कसे छोड़े साथ उसका
जो हर वक्त था साथ हमारे
अब यू ना कहना की 
छोड़ के जाना भी पड़ता है 🍂

Sourav Rana