bewafa shayari

bewafa shayari, bewafa hindi shayari for girlfriend, boyfriend. bewafa shayari hindi mai, mein, bewafa sanam, dard bhari bewafa shayari for love.

If you are ever heart broken? want to express your sad and dard bhari feelings, looking for bewafa shayari , sad bewafa hindi shayari status then this page is for you where you can copy and share on fb, whatsapp.

Umar guzar di bewafa ke || bewafa HIndi story

उम्र सारी गुजर दी बेवफा प्यार में , रातों की नीद कुर्बान कर दी बेवफा प्यार में , हमने की थी मोहब्बत उम्र भर के सुकून के लिए,हालत कुछ यू बदले मेरे अब लगता है क्यूं गुजर दी हमने उम्र बेवफा प्यार में , अब हाल ऐसा है मेरा दिल में दर्द , आखों में आशू हाथ में ग्लास शराब का, जब बढ़ जाता है दिल में आलम तनाहियो का हाथों में होती है ग्लास शराब की, महफिलों में जब उठती है बेफायी की बाते उन बातो में जिक्र तेरी बेवफाई का होता जरूर है , कहते है सब की बांदा तो था काम का कर दिया खराब इश्क ने , क्यू गुजर दी हमने उम्र बेवफा प्यार में ।
सबने रोका था की मत करना ये दोस्त तू मोहब्बत यह मिलती वफा के बदले बेवफाई हमने न मानी बात किसी की करली मोहब्बत तुझ सनम हरजाई से , क्यू गुजर दी हमने उम्र बेवफा प्यार में । गम के सिवा कुछ न मिला ये दोस्त तेरी मोहब्बत में , अब रही नही हिम्मत अब और गम सहने की कर रहे कुर्बा खुद को बेवफा प्यार में , जब जनाजा निकले गा तेरी गली से मेरे महबूब आखों में आशू तेरे होगा जरूर , क्यू कर दी बेवफाई सोचे गी जरूर, जब भी तू सोएगी किसी गैर की बाहों में क्यूं की बेवफाई सोचे गी जरूर , मेरे मरने के बाद सब की जुबा पे होगा मेरा नाम हर जगह चर्चा होगा तेरी बेवफाई का कैसे एक आशिक ने उम्र गुजर दी बेवफा प्यार में ।

yeh saanse toh usi din || Bewafa shayari

जिंदा हैं सिरफ कहने के लिए
ये सांसे तो उसी दिन थम गई थी
जिस दिन आप ने छोड़ दिए थे हम गैरों के लिए

Bewafai ke is duniya mein || bewafai shayari

बेवफाओ की इस दुनिया में संभल कर चलना दोस्तों…
यहां लोग मोहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं।

Bewafai ke is duniya mein sambhal kar chalana doston,
Yahaan log mohabbat se bhi barbaad kar dete hain.

Bewafai ka bazaar || Hindi shayari sach

BEWAFAI KA BAZAAR || HINDI SHAYARI SACH
Bewafai ke bazaar me maine tujhe biktey dekha hai
wo pyaar to humse karta hai par
maine usse gairo ko khat likhtey dekha hai
Arsh tu shayar nahi tu kayar hai
kyunki maine gairo ki baho me
tujhe chhipte dekha hai


Kaabil nhi thi mai… || Hindi shayari in punjabi fonts

Kabil nahi thi me nakash karne ke
tere fareb ne woh bhi sikha diyaa

ਕਾਬਿਲ ਨਹੀਂ ਥੀ ਮੈਂ ਨਕਸ਼ ਕਰਨੇ ਕੇ,
ਤੇਰੇ ਫਰੇਬ ਨੇ ਵੋਹ ਭੀ ਸਿਖਾ ਦਿਆ….

…Aman❤