Skip to content

Izhaar shayari

Tera intezaar || Hindi shayari || love shayari

Khidki ke bagal mein baith Kar tera intezar karna
Tu kisi aur ka hai yeh jankar bhi tujhe beintehaa pyar karna
Humein to bohton ne kaha ke tu bewafa hai fir bhi teri wafa ka intezar karna
Har din khwabon mein tujhse dil-e-izhaar karna par tere Milne par Na tujhse koi baat karna
Tu kisi aur ka hai yeh jankar bhi tujhe beintehaa pyar karna
Khidki ke bagal mein baith Kar tera intezar karna ❤🙈

खिड़की के बगल में बैठ कर तेरा इंतज़ार करना 
तू किसी और का है यह जानकर भी तुझे बेइंतेहा प्यार करना 
हमें तो बोहतों ने कहा कि तू बेवफा है फिर भी तेरी वफ़ा का इंतज़ार करना 
हर दिन ख़्वाबों में तुझसे दिल-ऐ इज़हार करना पर तेरे मिलने पर तुझसे ना कोई बात करना 
तू किसी और का है यह जानकार भी तुझे बेइंतेहा प्यार करना 
खिड़की के बगल में बैठ कर तेरा इंतज़ार करना ❤🙈