Skip to content

lakeer shayari

TU ek lakeer jo mere hath me nahi || hindi sad shayari

tere siva koi mere jazbaat me nahi
aankhe me wo nami hai jo barsaat me nahi
paane ki koshish tujhe bahut ki magar
tu ek lakeer hai jo mere haath me nahi

तेरे सिवा कोई मेरे जज़्बात में नहीं,
आँखों में वो नमी है जो बरसात में नहीं,
पाने की कोशिश तुझे बहुत की मगर,
तू एक लकीर है जो मेरे हाथ में नहीं।..

TERA GOSHA