Skip to content

Hawa shayari

Zindagi ke anzaan safar me || hindi zindagi shayari

ज़िन्दगी के अंजान सफर में निकल के देखूंगा,
ये मौत का दरिया है तो चल के देखूंगा...
सवाल ये है कि रफ्तार किसकी कितनी  है,
मैं हवाओं से आगे निकल कर देखूंगा...
इक मज़ाक अच्छा रहेगा चांद तारों से,
मैं आज शाम से पहले ढल कर देखूंगा...
रोशनी बाटने वालों पर क्या गुजरती है,
आज मैं इक चिराग़ की तरह जल कर देखूंगा...

Ek baat bolni THi ||hindi love shayari

Ek baat bolni thi ,
Bol du kyaaa….🤔
Apna naam tere naam ke saath jodna tha ,
Jod du kyaaa….🙈
Yu to Ishq ki hawa kabhi chali nahi hai meri zindagi mein ,
Magar aj soch rha hoon ,
Hawaoo ka rukh mod du kyaa….😇😍

एक बात बोलनी थी
बोल दूँ क्या…🤔
अपना नाम तेरे नाम के साथ जोड़ना था
जोड़ दूँ क्या…🙈
यूँ तो इश्क़ की हवा कभी चली नही है मेरी ज़िंदगी में
मगर आज सोच रहा हूँ
हवाओं का रुख मोड़ दूँ क्या…😇😍