Skip to content

Baat adhoori nhi hoti || hindi shayari

Tujhse batein karke bhi, meri baat poori nhi hoti.
Tujhe yaad kiye bina, meri raat poori nhi hoti
Tujhse roj milkar bhi, meri mulakat poori nhi hoti
Koi khushi meri, paye bina tera hath poori nhi hoti
Jaise khoob baras ke bhi dharti ke liye barsaat poori nhi hoti
Vesa hi tujhe paane ki chahat bhi chahat ke sath poori nhi hoti
Jaanta hu sirf baat karne se baat hatho hath poori nhi hoti
Lekin..
Baton baton mein ko baat karni thi vo keh dete to baat adhoori nhi hoti..

तुझसे बातें करके भी, मेरी बात पूरी नहीं होती..
तुझे याद किए बिना, मेरी रात पूरी नहीं होती..
तुझसे रोज मिलकर भी, मेरी मुलाकात पूरी नहीं होती..
कोई खुशी मेरी, पाए बिना तेरा साथ पूरी नहीं होती..
जैसे खूब बरस के भी धरती के लिए बरसात पूरी नहीं होती..
वैसा ही तुझे पाने की चाहत भी चाहत के साथ पूरी नहीं होती..
जनता हूं सिर्फ बात करने से बात हाथों हाथ पूरी नहीं होती..
लेकिन..
बातों बातों में जो बात कहनी थी वो कह देते तो बात अधूरी नहीं होती..

Title: Baat adhoori nhi hoti || hindi shayari

Best Punjabi - Hindi Love Poems, Sad Poems, Shayari and English Status


यादें || yaadein || hindi shayari || true love

जब तेरा अस्तित्व था …..मैं तेरे  चेहरे को दरकिनार करता रहा ……
वक़्त ने तेरे अस्तित्व को  यादों में क्या बदला की मैं उन  यादों में तेरा ही चेहरा ढूँढता रहा ।।
यादें धुंधला ना जाये मैं चेहरे को तस्वीरों में ढूँढता रहा …….
मिला जो तेरा चेहरा तस्वीरों में ……. मैं उनके अस्तित्व की यादों में फिरता ही रहा ||
सहज लेता हूँ तेरी तस्वीरों को , यादों के संदूक को, अपने आँसू को ……
पर गुज़रते वक़्त में वहीं लम्हे वापस आते है बस फ़र्क़  इतना है कि अब तेरे चेहरे की यादें है पर तेरा अस्तित्व नहीं…….

Title: यादें || yaadein || hindi shayari || true love


Har Dil Mein Umang Bhar Deti Hai

    शायरी हर दिल में,

  उमंग भर देती है

  जो कभी बे-रंग थे, उन दिलों में भी,

 मोहब्बत के रंग भर देती है

Shayari Har Dil Mein,

Umang Bhar Deti Hai

Jo Kabhi Berang The, Un Dilon Mein Bhi,

Mohabbat Ke Rang Bhar Deti Hai.

Title: Har Dil Mein Umang Bhar Deti Hai