Skip to content

Khuab shayari

Unhe sab mazak lagta hai || sad but true || love hindi shayari

Haqeeqat kaho to unhe khuab lagta hai
Shikwa karo to unhe mazak lagta hai
Kitni shiddat se hum unhe yaad karte hain
Ek vo hain jinhe sabkuch mazak lagta hai…🫠

हकीकत कहो तो उन्हें ख्वाब लगता है,
शिकवा करो तो उन्हें मज़ाक लगता है,
कितनी शिद्दत से हम उन्हें याद करतें हैं,
एक वो हैं जिन्हें ये सबकुछ मजाक लगता है…🫠

Aansu || sad shayari || mohobbat hindi shayari

😢आँसू आ जाते है रोने से पहले,
ख्वाब टूट जाते है सोने से पहले,
लोग कहते है मोहब्बत💔 गुनाह है,
काश कोई रोक लेते गुनाह होने से पहले।

खवाबों का एक दरिया || sad but true || hindi shayari

खवाबों का एक दरिया लिए फिर रहा हु
पूरे होंगे एक दिन सब , इसी का इंतज़ार कर रहा हु ,
दिल उदास, चहरे पर हसी बरकरार है
जी हाँ , मैं अंदर ही अंदर मर रहा हूँ ।
देख दुनियाँ की तमाम शजीशे
यकीनन जो कर रहा हु ,सही कर रहा हूँ ।💯

Sath nahi shodenge || Hindi shayari || two line shayari

ख्वाब मत बना मुझे….सच नहीं होते.
साया बना लो मुझे…साथ नहीं छोडेंगे❤️

Khwab toot te dekha hai || sad but true || sad hindi shayari

Yun hi nhi pahuche is mukaam par
Waqt ke sath logo ko badlate dekha hai 🙃
Mat puchiye humse khawahishon ki keemat
Khwaab dekhne ki umar me unhe toot te dekha hai 💔

यूं ही नही पहुंचे इस मुकाम पर
वक़्त के साथ लोगों को बदलते देखा है 🙃
मत पूछिए हमसे ख्वाहिशों की कीमत
ख्वाब देखने की उम्र में उन्हें टूटते देखा है 💔

Vo jo sakhas tha || hindi shayari on love

किसी को रफ्ता-रफ्ता चाहा था , अब किश्तों में मरते हैं ।
कैसे कहें अपना हाल-ए-दिल , क्या बताएँ कि हम मोहब्बत करते हैं ।।
ईश्क की सौदेबाजी में , नीलाम हो गई चाहते मेरी ।
नफा-नुकसान के फासलों में , उम्मीद की गुंजाइश ढूँढा करते हैं ।।
ख्वाबों के शहर में , चाहत का एक ख्याल आया ।
कई जवाबों के बाद , संगीन एक सवाल आया ।।
रूखसत किया जिसे , जिसकी पसंद से हमने ।
वो जो शख्स था , मेरी कई इबादतों के बाद आया ।।❤️🍂

Haseen khwaab💝 || hindi shayari

Beechad kar Phir Milenge, Yakeen kitna tha.
Khwaab hi tha magar, Haseen kitna tha..💝 

बिछड़ कर फिर मिलेंगे, यकीन कितना था
ख्वाब ही था मगर, हसीन कितना था.. 💝 

Kitabo ke siwa kuchh nahi || hindi beautiful shayari

Tum jab aaogi khoya hua paogi mujhe 
Mere tanhai me khwabo ke siwa kuchh nahi
Mere kamre ko sajane ki tamanna hai tumhe
Mere kamre me kitabo ke siwa kuchh nahi✨

तुम जब आओगी खोया हुआ पाओगी मुझे
मेरी तन्हाई में ख्वाबों के सिवा कुछ नहीं
मेरे कमरे को सजाने की तमन्ना है तुम्हें
मेरे कमरे में किताबों के सिवा कुछ नहीं✨