Skip to content

Sad shayari

Teri keemat || sad but true || hindi shayari

Kuch galtiyan bhut der mein samjh aayi humein
Teri keemat tere baad samjh aayi humein
Ab piche mudta hu to sab khaakh dikhayi deta hai
Ghar ki keemat jal jane ke baad samjh aayi humein💔

कुछ गलतियां बोहोत देर मे समझ आई हमे
तेरी कीमत तेरे बाद समझ आई हमे
अब पीछे मुड़ता हु तो सब खाख दिखाई देता है
घर की कीमत जल जाने के बाद समझ आई हमे💔

Tum laut ke aayoge || sad hindi shayari

Tumhare jane ke baad
Yahi vaada khud se kiya tha
Tum laut ke aayoge
Yahi bahana khud ko diya tha💔

तुम्हारे जाने के बाद
यही वादा खुद से किया था
तुम लोट के आओ गे
यही बहाना खुद को दिया था💔

Judaai ka zehar || sad hindi shayari || sad in love

Hisaab jo manga mohobbat ka, to unse diya na gya..
Pyar jo beshumar unke liye tha, vo unse liya na gya..
Humne to dil laga ke ki thi yaari, saboot to humse diya na gya..
Ab chupkar rote hain vo, judaai ka zehar bhi unse piya na gya..🙃

हिसाब जो मांगा मोहब्बत का, तो उनसे दिया ना गया..
प्यार जो बेशुमार उनके लिए था, वो उनसे लिया ना गया..
हमने तो दिल लगा के की थी यारी, सबूत तो हमसे दिया ना गया..
अब छुपकर रोते हैं वो, जुदाई का ज़हर भी उनसे पिया ना गया..🙃

True lines || Hindi shayari || sad shayari

संसार में कौन है जो सुखी है, सब दुखी हैं। कोई अपने दुःख से दुखी है तो कोई दूसरों के सुख के दुखी है 😔

Alfaaz || sad hindi shayari

Mere kadwe alfaaz chubh gaye unko
Magar mera saaf dil nazar nahi aaya💔

मेरे कड़वे अल्फ़ाज़ चुभ गए उनको
मगर मेरा साफ दिल नज़र न आया💔

Barbaad || two line hindi shayari

Ho raha hu mai kis tarah barbaad 
Ki dekhne wale aankh malte hai💔

हो रहा हूँ मै किस तरह बर्बाद
कि देखने वाले आंख मलते हैं💔

Dikhawe ka zmana || hindi shayari

Dikhawe ke is zamane me tujhe log hazaro milenge 
Agr mujhe jaisa koi mila to fir hm khushi se tujhe jane denge🙃

दिखावे के इस ज़माने में तुझे लोग हज़ारों मिलेंगे
अगर मुझ जैसा कोई मिला तो फिर हम खुशी से तुझे जाने देंगे🙃

Waqt || true line shayari || hindi shayari

Kuch lamho me waqt simat sa jata hai….
vo lamhe sukoon ban jaate hai….
fr kyu jb vo sukoon door hojata hai toh ye waqt guzarne ka naam nhi leta. …

कुछ लम्हों में वक़्त सिमट सा जाता है
वो लम्हे सुकून बन जाते हैं
फिर क्यों जब वो सुकून दूर हो जाता है तो ये वक़्त गुज़रने का नाम नहीं लेता…