Skip to content

zakham shayari

Tujhe bhula nhi sakte || Hindi shayari || sad but true

Zakham kitne gehre hai dikha nhi skte
Tujhe dekh sakte hai tere pass a nhi skte 🙃
Bda dukh hai tujhse kabhi ishq tha humein
Ab masla ye hai tujhe bhula nhi sakte 💔

जख्म कितने गहरे है दिखा नही सकते
तुझे देख सकते है तेरे पास आ नही सकते 🙃
बड़ा दुख है तुझेसे कभी इश्क था हमें
अब मसला ये है तुझे भुला नही सकते 💔

Dil mein zakham jada || true line Hindi shayari

Har or uljhan aur khamoshiyon ka shor hai
Ankhon mein dhua aur sanson mein gubar bhara hai
Bheed ke tamaam chehro par muskan to bani hai
Lekin dilon mein zakham jada aur sukun zara hai 🙃💯

हर ओर उलझन और खामोशियों का शोर है
आँखों में धुँआ और साँसों में गुबार भरा है 
भीड़ के तमाम चेहरों पर मुस्कान तो बनी है 
लेकिन दिलों में ज़ख्म ज्यादा और सुकून जरा है 🙃💯

Yeh zakham se bharaa hua dil || sad dard shayari hindi

यह जख्म से भरा हुआ दिल है जनाब

इसे महेफिल से ज्यादा तन्हाई रास आती है

Yeh zakhm se bhara hua Dil hai Janaab

Isse mehfil se zyada Tanhaii raas aati hai

Na Mohobbat dubara huyi || sad but true || hindi shayari

Naa Jakham bhare, naa Sharab sahara huyi 
Naa Tum loute, naa Mohabbat dobara huyi!💯💔

ना जख्म भरे, ना शराब सहारा हुई 
ना तुम लौटे, ना मोहब्बत दोबारा हुई !💯💔

Jakham || sad hindi shayari

Kuch jakham kitaabon mein rakh diye
Kuch ko alfaazon mein smet diya
Kuch fool bankar mile hmein
Aur kuch ne hum hi ko smet diya 💔

कुछ जख्म किताबो में रख दिए
कुछ को अल्फाजो में समेट दिया
कुछ फूल बनकर मिले हमे
और कुछ ने हम ही को समेट दिया💔

Tadapti rooh || sad hindi shayari

Kuch ghav thik ho rhe hai
kuch par marham lgaya ja rha hai
Par kya btaye ye jhakhm to bahar ke hai
andar se to meri rooh ko tadpaya jarha hai💔

कुछ घाव ठीक हो रहे हैं
कुछ पर मरहम लगाया जा रहा है
पर क्या बताएँ ये ज़ख्म तो बाहर के हैं
अंदर से तो मेरी रूह को तड़पाया जा रहा है💔

Zamana kis din meri baat sunega || hindi shayari

जमाना किस दिन मेरी बात सुनेगा।
मेरे सवाल कड़ी धूप की रेत में खड़े है।
बिस्तर पे लगे थे उनके भी ज़ख्म भर गए,
जिनके सपने मेरे से दस साल बड़े है।

Pathron ko kahan dard || shayari in hindi || true line

PATHRON KO KAHAN DARD || SHAYARI IN HINDI || TRUE LINE
Sab marzo se bura dil ka marz hota hai
or sab karzo se bura mohobat ka karz hota hai
arey tu de le jitne zakham dene
hai mere dil ko
akhir pathro ko kaha dard hota hai