Skip to content

waqt shayari

Bure wqt me badle hue log || 2 lines life truth hindi

Bure waqt to badal jaata hai
lekin bura waqt aur bure waqt me badle huye insaan yaad reh jaate hai

बुरे वक्त तो बदल जाता हैं,
लेकिन बुरा वक्त और बुरे वक्त मे बदले हुए इंसान याद रह जाते हैं।

Umeed shayari hindi || darwaze pe

Darwaze par baithi rehti hu yooh hi waqt be waqt
tum aao na aao umeed bani rehti hai

दरवाजे पर बैठी रहती हूं यूं ही वक्त बे वक्त
तुम आओ ना आओ उम्मीद बनी रहती हैं।

Waqt shayari || two line shayari

Mene aksar logo ko ye kehte huye suna hai ke waqt kisika nhi hota
Un logo ko mein kehna chahta hoon ke ek baar waqt waqt par zaroor aata hai 🤞

मैने अक्सर लोगो को ये कहते हुए सुना है कि वक्त किसीका नही होता
उन लोगो को में कहना चाहता हूँ कि एक बार वक्त वक्त पर जरूर आता है🤞

Jeena seekh liya || hindi shayari

Waqt ki pabandiyon se mene jeena seekh liya
Kalam thaam kar shabdon ko mene pirona seekh liya,
Hathon ke shaale dekhkar rona kis baat ka
Badhte waqt ke sath mene shaan ae jeena seekh liya… 😊👐

वक्त की पाबंदीयो से मैंने जीना सीख लिया,
क़लम थाम कर शब्दों को मैंने पिरोना सीख लिया,
हाथों के छाले देखकर रोना किस बात का,
बढ़ते वक्त के साथ मैंने शान से जीना सीख लिया…😊👐

Apne liye waqt || two line shayari

Aaj thoda waqt nikala hai apne liye
Esa mausam roz nhi aata ..😊❤️

आज थोड़ा वक्त निकाला है अपने लिए,
ऐसा मौसम रोज़ नहीं आता…😊❤️

Bure waqt ne hifazat ki hai || hindi shayari

Chand mein baithkar subah ka intzaar karta hu
Thoda kal sochkar aaj izhaar karta hu
Jab bhi meri nadaniyon ne galti karne ki izazat di hai
Tab mere bure waqt ne bhi meri hifazat ki hai..

चांद में बैठकर सुबह का इंतज़ार करता हूं,
थोड़ा कल सोचकर आज इजहार करता हूं…
जब भी मेरी नादानियो ने गलती करने की इजाज़त दी है,
तब मेरे बुरे वक्त ने भी हमेशा मेरी हिफाज़त की है…

Sab waqt ki baat hai || waqt hindi shayari

Inn baaton par kon qayam rehta hai janaab,
Humne waqt ke sath iss waqt ko bhi badalte dekha hai ✌️

इन बातों पर कौन कायम रहता है जनाब,
हमने वक़्त के साथ इस वक़्त को भी बदलते देखा है ✌️

Tumhare jane ki zid || sad but true

Waqt ko baaton mein uljhana aata tha humein
Agar zid tumhari jane ki na hoti✨

वक़्त को बातो में उल्ज़ाना आता था हमे
अगर जिद तुम्हारी जाने की न होती✨